English में BP को क्या कहते हैं English में BP का अर्थ

English mein BP ka Arth : हम अक्सर कई तरह की नई – नई बीमारी के बारे में सुनते हैं। ऐसी कई अजीब – अजीब बीमारी के बारे में सुनते हैं की उस बीमारी की वजह से इतने लोग तकलीफ में हैं। 

इन सब बीमारी के अलावा हम एक और प्रकार की बीमारी के बारे में जानते हैं जो काफी सामान्य हैं और हर कोई इसका शिकार होता हैं जब वह व्यस्क होता हैं। इस बीमारी को हम रक्तचाप के नाम से जानते हैं। इसको अलग – अलग भाषाओँ में अलग नाम से जानते हैं। 

इस लेख में आपको इसी के बारे में बतायेंगे की BP को अंग्रेजी में क्या कहते हैं? और इसके ही हम देखेंगे की BP का पूरा नाम नाम क्या हैं ? आपको हमारे इस लेख के माध्यम से इसके बारे में पूरी जानकारी मिलने वाली हैं। अंत इस लेख को अंत तक जरुर पढ़े ताकि आपको इसके बारे में पूरी जानकारी मिल सके।

BP क्या होता हैं ? 

शरीर में होने वाले कई प्रकार की बिमारियों में से यह एक प्रकार की बीमारी हैं जो की शरीर के लिए काफी खतरनाक हैं। इस प्रकार की बीमारी को रोकना काफी मुश्किल होता हैं क्योंकि यह अगर एक बार शरीर में होने लग जाए तो फिर इसे कण्ट्रोल करना भी मुश्किल रहता हैं। 

BP कैसे होता हैं ? 

चिकित्सा विज्ञान की भाषा में समझा जाए तो जब रक्त की गति असंतुलित हो जाती हैं जो उसे Blood pressure कहा जाता हैं। यह कैसे होता हैं इसके बारे में भी जान लेते हैं। रक्तचाप होने से यह मानव को मौत की और ढलेक देती हैं। रक्तचाप होने के यह कारण निम्न हैं – 

  • अगर किसी व्यक्ति को किडनी की बीमारी हैं तो उसे रक्तचाप की बीमारी हो सकती हैं। 
  • अगर कोई व्यक्ति हद्द से ज्यादा एल्कहोल लेता हैं तो भी उसे रक्तचाप हो सकता हैं। 
  • समय पर नींद नहीं लेना या नींद की समस्या के कारण भी रक्तचाप हो सकता हैं।
  • थायराईड की समस्या के कारण भी रक्तचाप हो सकता हैं। 
  • इसके अलावा कुछ लोगो को अपने माता – पिता से भी यह बीमारी मिल जाति हैं। अनुवांशिक कारण से। 
  • बढ़ते शरीर और बढती उम्र के कारण भी यह समस्या और यह बीमारी हो सकती हैं। 

English me BP ka Arth

English में BP को क्या कहते हैं English में BP का अर्थ

अगर इस बीमारी को हम अंग्रेजी भाषा में समझे तो इसका मतलब हम कुछ इस प्रकार से समझ सकते हैं। अंग्रेजी में BP का पूरा नाम होता हैं Blood pressure और इसे हिंदी में रक्तचाप कहते हैं। BP को अक्सर लोग सामान्य बिमारी समझते हैं परन्तु ऐसा नही हैं यह एक ऐसी बीमारी है अगर इसको हल्के में लिया गया तो यह मनुष्य को मौत के घाट तक पंहुचा सकता हैं। 

यह एक ऐसी बीमारी जो शरीर में अचानक रक्तचाप को कम और ज्यादा और ज्यादा तेज कर देती हैं। अगर ऐसा होता हैं तो रोगी को अधिक सांस में समस्या भी होने लगती हैं। इसी बीमारी से बचने के उपाय और आप इस बीमारी को किस प्रकार से पहचान सकते हैं इसके बारे में भी आगे बताया गया हैं। जिन्हें आप देख सकते हैं। 

BP के लक्षण 

अगर किसी व्यक्ति को रक्तचाप यानी BP होती हैं तो उसके बाद उसकी पहचान कैसे होगी। आखिर वो कौनसे लक्षण होते हैं जिनके माध्यम से रक्तचाप की पहचान की जा सकती हैं। यह हैं वो लक्षण जिससे BP की पहचान की जा सकती हैं। 

  • शरीर में अचानक थकान आये और अचानक चक्कर आये तो एक बार अपनी BP जरुर चेक करवाए। 
  • इसके अलावा अगर आँखों के सामने कालापन छा जाए तो उससे भी रक्तचाप होने की संभावना रहती हैं। 
  • खाते समय खाना अच्छा नहीं लगे, भूख नहीं लगे तो यह सब रक्तचाप के लक्षण है। 
  • अगर ऐसा लगे की बस अब तो उलटी होने ही वाली हैं। उल्टी जैसा लगे तो एक बार BP जरुर चेक करवाए। 
  • बिना कोई काम करे या बिना कुछ करे अगर थकान हो तो ऐसे में रक्तचाप जरुर चेक करवाए। 
  • चलते समय अगर सब कुछ या आसपास धुंधला दिखाई दे तो ऐसे में भी अपना रक्तचाप जरुर चेक करवा ले। 

यह वो सभी कारण हैं जिसकी वजह से आपको रक्तचाप हो सकता हैं। अगर आपको ऐसी किसी समस्या का आभास होता हैं तो तुरंत डॉक्टर को दिखाए। 

BP के बचाव

रक्तचाप की बीमारी का आभास होने पर आप डॉक्टर को जरुर दिखाए परन्तु इन सब के अलावा आप क्या कर सकते हैं वो भी देख लीजिये ताकि आप खुद को इस खतरनाक और जानलेवा बीमारी से बचा सकते हैं। 

  • अगर रक्तचाप कम हो या BP Low हो तो उसके लिए आपको नमक का सेवन कम करना चाहिए। इससे आपके रक्तचाप पर कुछ तो असर होगा। 
  • सिगरेट पीना भी कम और बंद कर दे। सिगरेट पीने से शरीर को ही नुकसान होता हैं। 
  • बिना डॉक्टर की सलाह के कोई भी गोली या दवाई नहीं खाएं, यह हानिकारक हो सकता हैं। 
  • किसी भी प्रकार की बेवजह की टेंशन नही ले और ना ही कुछ ज्यादा सोचे। ज्यादा सोचने और टेंशन लेने से दिमाग पर असर पड़ता हैं जो की काफी खतरनाक साबित हो सकता हैं। 
  • उठते और बैठते समय आराम जरुर करे ऐसा नही की अप एकदम तेजी से उठे और बैठे। इससे रक्त चाप बढ़ने और घटने के चांस ज्यादा रहते हैं। 
  • शरीर में पानी की कमी नहीं होने दे। अगर ऐसा होता हैं तो यह काफी खतरनाक हो सकता हैं। 
  • अपने शरीर को प्रयाप्त मात्रा में आराम दे। अगर ऐसा नही होता हैं तो इससे शरीर में नींद की कमी की वजह से भी रक्तचाप की बीमारी हो सकती हैं। 
  • रोगी को हल्का खाना खिलाये और Oil Free खाना खिलाये ताकि मरीज के शरीर में भूख की भी कमी नही हो। 
  • इसके अलावा मरीज को खुली हवा में बैठने की बजाय घर या ऑफिस के अंदर किसी ऐसी जगह पर बैठाये जहा पर बाहरी हवा आती हो परन्तु कम मात्रा में तो उसके अलावा पंखे की हवा ज्यादा आती हो। 
  • यह बीमारी होने से घबराहट भी होती हैं तो उसके लिए रोगी के लिए यह जरुरी हैं वो समय पर नींद लेते रहे।

हमारे आसान भाषा में लिखे इस लेख में आपको English mein BP ka Arth के बारे में बताया गया हैं। उम्मीद करते हैं की आपको यह लेख पसंद आया होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here